Internet Journal of Jain Literature
જય જિનેન્દ્ર : સ્તુતિ વિભાગ

पंचजिन स्तुति

	कल्लाणकंदं पढमं जिणिंदं, संतिं तओ नेमिजिणं मुणिंदं।
	पासं पयासं सुगुणिक्कठाणं, भत्तीइ वंदे सिरि वद्धमाणं।।१।।
	
	अपारसंसारसमुद्दपारं, पत्ता सिवं दिंतु सुइक्कसारं।
	सव्वे जिणिंदा सुरविंदवंदा, कल्लाणवल्लीण विसालकंदा।।२।।
	
	निव्वाणमग्गे वरजाणकप्पं, पणासियासेसकुवाइदप्पं।
	मयं जिणाणं सरणं बुहाणं, नमामि निच्चं तिजगप्पहाणं।।३।।
	
	कुंदिंदु-गोक्खीर-तुसारवन्ना, सरोजहत्था कमले निसन्ना।
	वाएसिरी पुत्थयवग्गहत्था, सुहाय सा अम्ह सया पसत्था।।४।।
	

— रचनाकार : पूर्वाचार्य

Our Concerns
Other useful stuff